कोरबा। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ विद्युत कंपनियों के एकीकरण करने के लिए सलाहकार नियुक्त किया है सलाहकार को रिपोर्ट तैयार करने का डेटलाइन 31 मार्च 2021 दिया गया है। वर्तमान में विद्युत कंपनी की 05 अनुषंगी कंपनी है इन पांचों कंपनियों को पूर्व की तरह एक कंपनी बनाए जाने की मांग श्रमिक संगठनों ने मुख्यमंत्री से किया है। जिसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में एकमात्र विद्युत कंपनी बनाए जाने की संभावना तलाश करने के लिए सलाहकार नियुक्त किया है। देश के कई प्रदेशों में दो विद्युत कंपनियां हैं छत्तीसगढ़ में पांच कंपनियों की संख्या है पूर्वर्ती सरकार ने बिजली सुधार एक्ट के आधार पर छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनी को पांच अनुषंगी कंपनियों में विभक्त कर दिया है जिससे उत्पादन वितरण होल्डिंग ट्रांसमिशन और अन्य कार्य अलग-अलग कंपनियां कर रही हैं। इस विभाजन से विद्युत कंपनी का सालाना घाटा 4000 करोड रुपए से भी अधिक घाटा हो रहा है कंपनियां विभक्त किए जाने से स्थापना लागत भी बढ़ गई है।