रायपुर: राज्यसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों ने शपथ ग्रहण की. छत्तीसगढ़ से उच्च सदन पहुंचे केटीएस तुलसी ने पंजाबी में शपथ ली. ज्योतिरादित्य सिंधिया, शिबू सोरेन, दिग्विजय समेत 61 से ज्यादा नेता सदन के चैम्बर में शपथ ली. शपथ ग्रहण आमतौर पर या तो सत्र के दौरान होता है अथवा जब संसद सत्र नहीं होता है तब राज्यसभा के सभापति के चैम्बर में होता है. राज्यसभा के लिए हाल के चुनाव में 20 राज्यों से 61 सदस्य निर्वाचित हुए हैं.
बता दें कि अप्रैल में कांग्रेस के दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा और बीजेपी से युद्धवीर सिंह जूदेव का कार्यकाल खत्म हो गया था. 13 मार्च 2020 को राज्यसभा उम्मीदवार केटीएस तुलसी और फूलोदेवी ने नामांकन दाखिल किया था. इस दौरान कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया समेत सीएम बघेल, प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम समेत सभी वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

भारत के पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता हैं तुलसी
केटीएस तुलसी एक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं. साथ ही वे भारत के पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता भी रहे हैं. उन्हें पहली बार यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान भारत के राष्ट्रपति ने साल 2014 में राज्यसभा के लिए नामांकित किया था.

नियमों का पालन करते हुए दिलाई गई शपथ

अधिकारियों ने बताया कि यह पहला मौका होगा जब अंतर सत्र की अवधि में सदस्य सदन के चैम्बर में शपथ लेंगे, जिससे कोविड-19 के मद्देनजर सामाजिक दूरी के मानकों का पालन किया जा सके. राज्यसभा के अधिकारियों ने बताया था कि प्रत्येक सदस्य को शपथ ग्रहण समारोह में अपने साथ केवल एक अतिथि को लाने की अनुमति दी गई थी.