कोरबा/बीती रात कलेक्टर के निर्देश पर प्रशासन के दो नायब तहसीलदारों ने अकेले ही ढेंगुरनाला में दबिश देकर रेत माफियाओं के चार ट्रेक्टर जप्त किए। जिले में अवैध रेत उत्खनन व परिवहन पर लगाम कसने में प्रशासन की इस कार्यवाही से रेत माफियाओं में हड़कंप मच गया हैं।
कल देर रात लगभग पौने 12 बजे सूचना मिली कि ढेंगुरनाला में रेत माफियाओं द्वारा ट्रेक्टर ट्राॅली लगाकर रेत का अवैध उत्खनन किया जा रहा है। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए प्रशासनिक अधिकारियों को कार्यवाही के तत्काल निर्देश दिए। कलेक्टर के निर्देश मिलते ही कोरबा तहसील में पदस्थ नायब तहसीलदार पवन कोसमा के नेतृत्व में प्रशासनिक अधिकारियों के दल ने ढेंगुरनाला में दबिश दी। ढेंगुरनाला पुल के नीचे घाट पर अवैध रूप से रेत का उत्खनन कर रहे मजदूर अधिकारियों को देखकर भाग खड़े हुए परन्तु फिर भी चार ट्रेक्टरों सहित दो ट्रॅाली और पांच मजदूर-ड्रायवरों को अधिकारियों ने पकड़ा।
पूछताछ पर मजदूरों ने बताया कि रेत निकालने का यह अवैध कार्य रामपुर निवासी बंटी श्रीवास के लिए किया जा रहा है। पकड़े गए चार ट्रेक्टरों में से एक ट्रेक्टर का स्टेरिंग राॅड खराब होने के कारण उसे घटना स्थल पर ही छोड़ दिया गया और तीन ट्रेक्टर तथा दो ट्राली को रामपुर चौकी लाया गया। यहां जप्ती नामा तैयार कर पुलिस अभिरक्षा में रात 2.30 बजे सौपा गया है। पकड़े गए एक ट्रेक्टर सीजी 12 बीए 9367 में ब्लेड लगाकर नाले में घाट पर उतारकर रेत निकालकर किनारे पर इकट्ठी की जा रही थी जहां से मजदूरों द्वारा ट्रॅाली में लोड किया जा रहा था। पकड़ी गई दो ट्रेक्टर-ट्रालियों में से एक रेत से भरी तथा एक खाली थी। तीन ट्रेक्टरों को रामपुर पुलिस चौकी की अभिरक्षा में रखा गया है। प्रकरण के संबंध में पूरी जानकारी अनुविभागीय राजस्व अधिकारी कोरबा सहित खनिज विभाग के अधिकारियों को आगे कार्रवाई के लिए दी गई है।